Monthly Archives: अक्टूबर 2009

गोआ में मडगांव के बहाने हिन्दुविरोधी-भारतविरोधी मिडीया ईसाई मिसनरी एंटोनियो की गुलाम सरकार का देशभक्त हिन्दूओं पर एक और हमला

मेरे प्यारे हिन्दूओ आपको जरूर याद होगा कि किस तरह ईसाई मिसनरी एंटोनियो माइनो मारियो के इसारे पर लैफ्टीनैंट कर्नल पुरोहित जैसे देशभक्त सैनिक व साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर जैसे क्रंतिकारियों को झूठे मामलों में फंसाकर उन पर मकोका लगा दिया गया जिसे माननीय मकोका न्यायलय ने वाद में मनघड़ंत(झूठा) पाकर खारिज कर दिया गया ।

आपको यह भी याद होगा कि किस तरह एंटोनियो माइनो मारियो के इसारे पर तत्कालीन कानून मंत्री हंसराजभारद्वाज को एंटोनियो माइनो मारियो के हमबतन-हमराज व पार्टनर क्वात्रोची के लंदन बैंक में जब्त बोफोर्स-दलालीकांड की रकम को छुड़बाने के लिए लंदन भेजा गया और रातों-रात सारी रकम निकलवा ली गई। जब मानीय नयायलय ने उस रकम को जब्त रखने के आदेश दिए तब तक सारा काम निपट चुका था।

आपको यह भी जरूर ध्यान में होगा कि अभी हाल ही में एंटोनियो की गुलाम मनमोहन सरकार ने किस तरह बोफोर्स दलाली कांड में एंटोनियो माइनो मारियो के सह अभियुक्त क्वात्रोची को सब मुकदमों से मुक्त करने की अंतिम सफल कोशिश की । माननीय न्यायलया में कोइ अड़चन न आये इसके लिए एक अभियुक्त के सहयोगी को सरकारी बकील नियुक्त करबा दिया । क्या इससे बढ़ी बेशर्म और गद्दार सरकार आपने कभी देखी है । 

आपको जरूर यह भी याद होगा कि माननीय सर्वोच न्यायालय ने जिहादी आतंकवादी मुहम्मद अफजल को 19 नमम्वर 2006 को फांसी तय की थी जिसे गद्दारों की समर्थक ये हिन्दुविरोधी सरकार आज तक लटकाय हुए है। यह वही सरकार है जिसने हैदराबाद बम्मविस्फोटों के दोसियों को जेल से रिहा कर एक-एक आटोरिक्सा दिया ।

·        आज यही हिन्दुविरोधी-भारतविरोधी मुसलिम आतंकवादियों व ईसाई दलालों की समर्थक सरकार सरारती तत्वों द्वारा किए गए बम्मविस्फोटों मे मारे गए निर्दोष शांतिप्रिय देशभक्त धार्मिक संस्था के सदस्यों के परिबारजनों  को संतावना देने के बजाए उन मारे गए देशभक्तों के विरद्ध ही आरोप पर आरोप लगाय जा रही है।(for more information visit Hindu Jaguriti Samiti) आपको याद होगा कि यह वही गद्दारों की सरकार है जिसने मुसलिमजिहादी आतंकवादी इसरत जहां के मरने पर मुआबजा दिया था और देशभक्तों के मरने पर देशद्रोह का केश दर्ज कर दिया उस मुसलिम जिहादी आतंकवादी को निर्दोस सिद्ध करने के लिए ये गद्दार आज भी प्रयत्न कर रहे हैं ।

·        मुम्बइ में इस गद्दारों की सरकार ने जिन मुसलिम जिहादीयों को बचाने के लिए हिन्दूक्रंतिकारियों पर झूठे आरेप लगाये और इन आरोपों को आगे बढ़ाने के लिए जिस अधिकारी का उपयोग किया कुदरत का न्याय देखो वो अधिकारी उन्हीं मुसलिम जिहादी आतंकवादियों के हाथों मारा गया ।तब भी इस गद्दार मिडीया व राजनितिक दलों के घर-कुदालों ने उस हमले में हिन्दुओं को फंसाने का भरपूर प्रयास किया।

·        कहते हैं जिसका कोई नहीं उसका भगवान होता है आज देशभक्त हिन्दु लगभग लावारिस व अनाथ सा जीबन जीने को मजबूर हैं । इन हालात में हम भगबान से यही प्रर्थना कर सकते हैं कि जिस तरह उसने आज तक धर्म-रक्षकों का साथ दिया है आगे भी अपना आशीर्बाद धर्मरक्षक देशभक्तों पर बनाए रखे ताकि हम इन गद्दारों के षडयन्त्रों को असफल कर अपनी प्यारी भारतमाता को इन गद्दारों से मुक्त करवा सकें। पर गीता में कहा गया है कर्म प्रधान है आओ मेरे प्यारे जागरूक हिन्दुओ खुद सक्रिए हो जाओ व बौद्धिक गुलाम हिन्दुओं को जगाकर इस हिन्दूक्रति का निर्णायक शूत्रपात करो ….. जागो हिन्दू जागो .

Advertisements

भारत पर मंडराते खतरे और जनता को बांटती भारत विरोधी भारत सरकार

आज एक बात जो सपष्ट दिख रही है बो है भारत पर मंडराता चीनी खतरा । मजे की बात यह है कि जब चीन लगातार भारत के अन्दरूनी मामलों में हस्तक्षेप कर भारत पर हमला करने के सपष्ट संकेत दे रहा है उस बक्त भी भारत की भारत-विरोधी हिन्दु-विरोधी सरकार सुकक्षाबलों में सिर्फ मुसलमानों की भरती करने की घोषणा कर देश की जनता को हिन्दू-मुसलिम के नाम पर बांटने की कोशिश कर रही है।

सोचने बाला विषय यह है कि जो चीन एक बक्त भारत के लगभग बराबर की ही ताकत रखता था बो आज भारत से इतन ज्यादा शक्तिशाली कैसे दिखता है कमोवेश हालात इतने खतरनाक हो गए हैं कि अमेरिका भी चीन के डर से दलाइलामा से बात करने से मना कर देता है।

हमारे विचार में चीन के आगे बढ़ने का सबसे बढ़ा कारण है वहां का स्वाभिमानी देशभक्त नेतृत्व और भारत के पिछड़ने का सबसे बढ़ा कारण है भारत का बौद्धिक गुलाम हिन्दुविरोधी देशविरोधी नेतृत्व।

चीन के आगे बढ़ने का दूसरा सबसे बढ़ा कारण है वहां पर लोकतन्त्र का न होना क्योंकि यही लोकतन्त्र है जिसकी बजह से आज भारत की सारी जनता को सांप्रदाय,क्षेत्र,भाषा,जाति के आधार पर बांटकर इन गद्दार नेताओं ने एसे हालात पैदा कर दिए कि आज देश के प्रधानमन्त्री और राष्ट्रपति तक एक विदेशी औरत एंटोनियो माइनो मारियो के गुलाम हैं । जिसका सारा ध्यान इसबक्त अपने हमबतन हमराज बोफोर्षदलाली कांड के शूत्रधार क्वात्रोची को मुक्तकरवाकर अपना हिस्सा प्राप्त करना है।

कोइ भी देश सिर्फ अर्थ और सेना के बल पर ताकतबर नहीं बनता ।देश की सबसे बढ़ी ताकत होती है उसकी सांस्कृतिक एकता । भारत के इन मंदबुद्धि नेताओं ने भारत के लोगों को धर्मनिरपेक्षता के बहाने इस सांस्कृतिक  धरोहर से अलग-थलग करने का सबसे बढ़ा हिन्दुविरोधी –देशविरोधी षडयनत्र किया जिसके परिणाम स्वरूप देश में एक एसा बुद्धिजीवी(परजिवी) बर्ग त्यार हुआ जिसने इसाइ दलालों व मुसलिम जिहादी आतंकवादियों के पैसे के बल पर देश में एक एसा मिडीया नैटबर्क त्यार किया जिसका एकमात्र लक्ष्य सांस्कृतिक राष्ट्रबाद के ध्वजबाहक देशभक्त हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों को बदनाम कर राष्ट्रबाद की ज्वाला को निरूत्साहित व समाप्त करना है।

इस देशविरोधी मिडीया की बजह से ही आज देशभक्ति की ज्वाला की जगह नशैड़ीप्रवृति, बैस्यवृति और ब्याभिचार की लत देश की युबा पीढ़ी को जकड़ती जा रही है ।

 ये तो भला हो देश के सैंकड़ों छोटे-बड़े हिन्दुत्वनिष्ठ संगठनों का जिन्होंने आर एस एस के नेतृत्व में विपरीत परिस्थितियों में भी सांस्कृतिक राष्ट्रबाद की ज्वाला को जगाय रखा । जिसके परिणामस्वारूप स्वामी रामदेब जी के नेतृत्व में एक एसी क्रांति का शूत्रपात जो चुका है जो देश के अन्दर और बाहर के शत्रुओं का समूलनाश करने पर ही शांत होगी।

जागो हिन्दू जागो

 

%d bloggers like this: