पाकिस्तान में मुसलिम आतंकवादियों ने सिखों का सिर काटकर गुरूद्वारे में फैंका

पाकिस्तान में मुसलिम आतंकवादियों ने सिखों का सिर काटकर गुरूद्वारे में फैंका

हम लगातार हिन्दूओं-सिखों का ध्यान मुसलिम आतंकवाद की ओर खींचने का प्रयत्न कर रहे हैं लेकिन एक तो हिन्दू-सिख ये समझजने को तैयार नहीं दूसरा मुसलिम आतंकवादियों व उनके समर्थकों का सूचना तन्त्र इतना ताकतबर है कि वो इस सच्चाई को हिन्दूओं-सिखों तक किसी भी स्थिति में नहीं पहूंचने देना चाहता। इतिहास इस बात का साक्षी है कि इस्लाम जिस क्षेत्र या देश में भी गया है वहां कतलो-गारद हिंसा अशांति के सिवा कुछ भी नहीं रहा ।बार-बार ये कहा जाता है कि इस्लाम हिंसा कतलो-गारद की शिक्षा नहीं देता पर सच्चाई इसके विलकुल विपरीत है।दुनिया का कोई भी देश या क्षेत्र ले लो जो मुसलिम विहीन हैं सिर्फ वही क्षेत्र इस कतलो गारद से मुक्त है ।जहां मुसलिम अबादी 10 प्रतिशत से कम है वहां वेशक जिहाद का खुला हिंसात्मक स्वारूप देखने को नहीं मिलता ।भारतीयों को ये सब समझने के लिए ज्यादा दूर जाने की जरूरत नहीं ।आज विभाजित भारत के इस हिस्से पर अगर हम नजर दौड़ायें तो एक बात सपष्ट देखने को मिलती है कि जहां-जहां खुद को हिन्दू मानने बालों की जनशंख्या अधिक है वहां-वहां शांति है पर जहं कहीं भी हिन्दू जनशंख्या कम है वहां आग लगी  है हर रोज हिंसा हो रही है बम्म-विस्फोट हो रहे हैं ।कुछ लोग कई बार बांमपंथी आतंकवाद को हिन्दू आतंकवाद की संज्ञा देने की मूर्खता करत बैठते हैं पर वो ये भूल जाते हैं कि वांमपंथी खुद को हिन्दू नहीं मानते न ही वो ये हिंसा हिन्दू –धर्म के प्रचार प्रसार के लिए करते हैं (बैसे भी बांमपंथियों के प्रचार-प्रसार का तरीका भी मुसलिम आतंकवादियों के तरीके से कोई अलग नहीं है) जबकि मुसलिम आतंकवाद एक योजना के अनुसार इस्सलाम के प्रचार-प्रसार के लिए हिंसा करते हैं जिसे वो जिहाद कहते हैं।इसी जिहाद को आगे बढ़ाते हुए कशमीर में इस्लामी आतंकवादियों का राज्या स्थापित करने के लिए मुसलमानों ने हिन्दूमिटाओ-हिन्दूभगाओ अभियान चलाकर हजारों हिन्दूओं को मौत के घाट उतारकर लाखों को घरबार छोड़ने पर मजबूर किया ।इसी जिहाद की कड़ी को भारत में मुसलिम आतंकवादियों राज्या स्थापित करने के लिए देश भर में हिन्दूओं को निसाना बनाकर लगातार हमले किए जा रहे हैं जिसे तरह-तरह के कुतर्क देकर इन मुसलिम आतंकवादियों के ठेकेदार जायज ठहराने की कोशिस कर रहे हैं ताकि ये जिहादी आतंकवाद आगे बढ़ता रहे। पाकिस्तान में गैर-मुसलिमों का लगभग सफाया किया जा चुका है कुछ गिने चुने बच गए हैं उन्हीं पर इस्लाम अपनाने के लिए लगातार दबाब बनाया जा रहा है जब वो नहीं माने तो उन्हें जजिया कर देने के लिए बाध्या किया गया । जब वो मुसलमानों को दबाब में नहीं आए तो उन्हें अगवा कर उन पर जुल्म ढाय गय ।जब ये सिख इन जुल्मों के बाबजूद गुरूओं की शिक्षा पर अडिग रहे तो इन्हें हलाल कर इनमें से दो के सिर गुरूद्वारे में फैंक दिए गए। जो कुछ आज ये सिखों के साथ किया गया कमोवेस दुनिया के हर हिस्से में जहां कहीं भी मुसलमान बहुमत मे हैं गैर-मुसलिमों के साथ यही सब किया जा रहा है ।पाकिस्तान में हिन्दूओं के साथ भी यही सब किया गया ।अब कैसे कहें कि मुसलमान आतंकवादी नहीं हैं या फिर आतंकवादियों का कोई धर्म नहीं होता।मुसलिम आतंकवाद के प्रति कबूतर की तरह आंख बंद कर काम नहीं चलने बाला जरूरत है तो हिन्दू-सिखों को मिलकर कुछ एसे रास्ते निकालने की जिनसे हिन्दूओं-सिखों की आने-बाली पिड़ीयों को इन मुसलिम आतंकवादियों के हिंसक अत्याचारों से बचाया जा सके।       

 

Advertisements

आपके कुछ न कहने का मतलब है आप हमसे सहमत हैं

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: