क्या आपको ये तसवीरें देखकर लगता है कि सुरक्षाबल वेकाबू हैं जैसा कि आतंकवादियों का मददगार उमर अबदुल्ला आरोप लगा रहा है ?

यहां जिस युबक की मौत का जिक्र किया जा रहा है जानते हो वो कौन था व कैसे मरा ? सोपोर में आतंकवादियों व सुरक्षावलों के वीच मुठबेड़ हुई जिसमें आतंकवादी मारे गए। इस मुठभेड़ के बाद जब सुरकक्षावल बापस लौट रहे थे तो इस नबयुबक सहित दर्जनों आतंकवादियों के मददगारों ने सुरक्षाबलों पर हमला बोल दिया। इस हमले में सुरक्षाबलों की गाड़ी जला दी गई ब सुरक्षाबलों को भी मारने कोशिश कोशिश की गई। इस संघर्ष में ये आतंकवादी मारा गया जिसका राज्य का जिहादी मुख्यमन्त्री विरोध कर रहा है। अब प्रश्न सिर्फ इतना सा है कि जो भी कातिल आतंकवादियों के समर्थन में सुरक्षाबलों पर हमला करे वो व उसका समर्थन करने वाले गद्दार नहीं तो और क्या हैं?

गद्दारी की सजा मौत के सिवा और क्या हो सकती है ?

अबदुल्ला परिवार वो परिवार है जिसने नेहरू परिवार के सहयोग से कशमीर घाटी से हिन्दूओं का नमोनिशान मिटाया। अब जब कशमीरघाटी में हिन्दूओं की लगभग हर सम्मपति पर मुसलिम आतंकवादी कब्जा जमा बैठे हैं ।सुरक्षाबल लगातार मुसलिम अलगाववादियों के हमले झेल रहे हैं।


एक तरफ सेकुलर गिरोह की केन्द्र सरकार सुरक्षाबलों पर मुकद्दमे पर मुकद्दमा दर्ज कर उनका मनोबल तोड़ने का प्रयत्न कर रही है दूसरी तरफ राज्य सरकार खुलकर आतंकवादियों का समर्थन कर सेना व CRPF पर हमले करवा रही है।


इन सब हालात में सेना व अन्य सुरक्षाबलों को लगातार अपने जबानों को खोना पढ़ रहा है।आए दिन मुसलिम आलगाववादियों द्वारा किए जा रहे हमलों से ढेरों सैनिक घायल हो रहे हैं।


अब आप इस तसवीर को देखकर खुद तय कर लो कि इसे हम विरोध प्रदर्शन कहेंगे या फिर सेना पर हमला।

जिस मकान को ये निसाना बना रहे हैं उसके अन्दर सैनिक हैं सैनिकों के इतने धैर्य के बाद भी अगर ये राक्षस उन पर हमला किए जा रहे हैं तो बजह एक ही है ये आतंकवादी जानते हैं कि केन्द्र और राज्य सरकार ने सुरक्षाबलों के अधिकारों में कमी कर आतंकवादियों को हमला करने की छूट दे रखी है। अब इसके बाद भी अगर केन्द्र सरकार और राज्य सरकार सुरक्षाबलों पर दबाब बनाए जा रहे हैं तो ये गद्दारी की इन्तहां नहीं तो और क्या है?

सैनिकों पर बढ़ते हमलों से निजात पाने के लिए कोई भी देशभक्त सरकार सेना को खुला हाथ देकर यथाशीघ्र अलगाववादियों का सफाया करबाती जबकि गद्दारों की सरदार एंटोनिया की ये गुलाम मनोमोहन सरकार उल्टा आतंकवादियों का साथ देकर सेना व सुरक्षावलों का नुकसान करवाने पर तुली है।


सैनिकों पर प्रतिबन्ध लगाकर आतंकवादियों की सहायता करने का इनका ये काम कोई नया नहीं है।


नेहरू खानदान व अबदुल्ला खानदान के ऐसे ही कारनामों की बजह से कशमीरघाटी में 60000 से अधिक हिन्दूओं का नरसंहार अंजाम दिया गया व 500000 हिन्दूओं को वेघर किया गया।


हम तो सेना के तीनों अंगों के अध्यक्षों से यही विनती करेंगे कि इस सरकार को सता से हटाकर खुद देश की सुरक्षा सुनिश्चित करें ।


आशा है आप भी इस बात से सहमत होंगे।

देखो जरा क्या हालात हैं सुरक्षाबलों के।

सैनिकों पर हमला करने जाते मुसलिम अलगाववादी

सैनिकों को दौड़ा-दौड़ा कर मारते मुसलिम आतंकवादी

सैनिकों को घेर-घेर कर मारते मुसलिम आतंकवादी

मुसलिम आतंकवादियों के हाथों मारे जा रहे सैनिकों पर और दबाब बनाती गद्दारों की राज्य सरकार व केन्द्र सरकार को आप क्या कहोगो?

हम तो एकवार फिर कहते हैं कि मुसलिम आतंकवादियों की मदद करने वाले नोताओं को गोली से उड़ाकर सेना को अपनी व देश की रक्षा खुद अपने हिसाब से करनी चाहिए।


Advertisements

आपके कुछ न कहने का मतलब है आप हमसे सहमत हैं

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: